‘कोरोना कैपिटल’ बना दिल्ली, बेहद खतरनाक स्टेज पर देश की राष्ट्रीय राजधानी!

दिल्ली में कोरोना वायरस का कहर जारी।
नई दिल्ली। चीन (coronavirus in China) के वुहान शहर से फैले कोरोना वायरस का कहर पूरी दुनिया में जारी है। भारत में भी इस वायरस से हाहाकार मचा रखा है। आलम ये है कि पाबंदियों और लॉकडाउन के बावजूद भी कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। वहीं, देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली ( COVID-19 in Delhi ) में एक बार फिर यह वायरस लौट आया है और तांडव मचा रहा है। पिछले 24 घंटे में इस महामारी ने 85 लोगों की जान ले ली है। आंकड़ों को देखकर लगता है कि दिल्ली ‘कोरोना कैपिटल’ बनता जा रहा है।
पढ़ें- Randeep Guleria : दिल्ली को कोरोना सुनामी से बचाने के लिए प्रभावी रणनीति पर अमल जरूरी
दिल्ली बना वुहान!
जिस दिल्ली से कोरोना सबसे पहले लौट गया था, वहां इस महामारी ने दोबारा कोहराम मचाना शुरू कर दिया है। अगर पिछले 24 घंटे के आंकड़ों पर गौर किया जाए, तो वह बेहद चौंकाने वाला है। पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 8593 कोरोना के नए मामले सामने आए हैं। वहीं, इस महामारी से 85 लोगों की मौत हुई है। लेकिन, राहत की बात ये है कि 7262 से कोरोना से जंग भी जीते हैं। वहीं, सोमवार को दिल्ली में नए केस का आंकड़ा 7830 था। अक्टूबर के अंत से दिल्ली में दोबारा कोरोना का कहर शुरू हुआ, जो अब तक जारी है। एक अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक दिल्ली में कोरोना से 1124 लोगों की मौत हुई है। वहीं, नवंबर में यह आंकड़ा बेहद चौंकाने वाला है। एक नवंबर से 9 नवंबर तक दिल्ली में कोविड-19 से अब तक 581 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, सितंबर महीने में कोरोना से दिल्ली में 917 लोगों की मौत हुई थी, जबकि अगस्त में यह आंकड़ा 458 था।
सात हजार से ज्यादा की मौत
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्यनेद्र जैन पहले ही कह चुके हैं कि दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर है। उन्होंने कहा था कि लोगों को और ज्यादा सावधान रहने की जरूरत है। गौरतलब है कि दिल्ली में 4,44,239 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें एक्टिव केसों की संख्या 41,385 हैं। जबकि, 4,02,854 लोग इस महामारी से जंग जीत चुके हैं। वहीं, कोरोना वायरस से दिल्ली में अब तक 7,143 लोगों की मौत हो चुकी है। कहा यहां तक जा रहा है कि दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ने से कोरोना वायरस विकराल रूप धारण करता जा रहा है।
पढ़ें- कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अच्छी खबर, रिकवरी रेट 93 फीसदी के करीब

Related posts