जेट एयरवेज की फिर हो सकती है वापसी, कालरॉक कैपिटल-मुरारी लाल जालान ने जीती बोली

Kalrock Capital-Murari Jalan consortium wins bid for Jet Airways
नई दिल्ली। लंबे समय से वित्तीय संकट का सामना कर रही निजी एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज ( Jet Airways ) की बिजनेस में जल्द वापसी हो सकती है। लंदन की कालरॉक कैपिटल ( Kalrock Capital ) और निवेशक मुरारी लाल जालान ( Murari Lal Jalan ) वाले कंसोर्टियम ने जेट एयरवेज के लिए लगी बोली जीत ली है। एयरलाइंस कंपनी को कर्ज देने वालों ने इस कंसोर्टियम के रेजोल्यूशन प्लान को मंजूरी दे दी है।
Jet Airways Revival Plan में बड़े नाम गायब, 12 कंपनियों ने दिखाई दिलचस्पी
जेट एयरवेज के रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल ने दी जानकारी -इस अधिग्रहण की घोषणा जेट एयरवेज के रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल (आरपी) आशीष छावछरिया की ओर से की गई है। आशीष ने बताया कि कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स ने इन्सोलवेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) के सेक्शन 30(4) के तहत कालरॉक कैपिटल और मुरारी लाल जालान वाले कंसोर्टियम की बोली को अप्रूव कर दिया है। आशीष छावछरिया ने कहा कि लेनदारों की समिति ने दो शॉर्टलिस्ट किए गए बोलीदाताओं द्वारा प्रस्तुत अंतिम प्रस्ताव योजनाओं पर ई-वोटिंग से निष्कर्ष निकाला है।
जेट एयरवेज से नौकरी जाने के बाद शुरू किया नया सफर, अब दे रहे दूसरों को नौकरी
जेट एयरवेज की कमेटी ऑफ क्रेडिटर्स (सीओसी) की 17वीं बैठक तीन अक्टूबर को आयोजित की गई थी और दो रिजॉल्यूशन आवेदकों द्वारा प्रस्तुत अंतिम प्रस्ताव योजनाओं पर चर्चा की गई थी। “ई-वोटिंग 17 अक्टूबर 2020 को पूरी हो गई है और मुरारी लाल जालान और फ्लोरियन फ्रिट्च द्वारा प्रस्तुत संकल्प योजना को विधिवत मंजूरी दे दी गई है।”
कौन हैं अधिग्रहण करने वाली कंपनियां-मुरारी लाल जालान संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के एंटरप्रेन्योर है। जालान एमजे डेवलपर्स कंपनी के मालिक हैं। इनकी रियल एस्टेट, माइनिंग, ट्रेडिंग, कंस्ट्रक्शन, एफएमसीजी, ट्रेवल एंड टूरिज्म और इंडस्ट्रियल वर्क्‍स जैसे सेक्टर्स में रुचि है। जालान ने यूएई, भारत, रूस और उज्बेकिस्तान समेत कई देशों में निवेश किया है। कालरॉक कैपिटल लंदन की फाइनेंशियल एडवाइजरी और अल्टरनेटिव असेट मैनेजमेंट से जुड़ा कारोबार करती है। यह कंपनी रियल एस्टेट और वेंचर कैपिटल से मुख्य रूप से जुड़ी है।
अन्य कंपनियों ने भी लगाई थी बोलीजेट एयरवेज को खरीदने के लिए कॉलराक कैपिटल के नेतृत्व वाले कंसोर्टियम के अलावा हरियाणा की फ्लाइट सिमुलेशन टेक्निक सेंटर और अबू धाबी का इम्पीरियल कैपिटल इन्वेस्टमेंट एलएलसी वाले कंसोर्टियम ने भी बोली लगाई थी।

Related posts