राहुल गांधी को लेकर हाथरस के बाद हरियाणा में राजनीति गरमाई, पढ़िए क्या हो रहा

राहुल गांधी एवं अनिल विज
चंडीगढ़। उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड के बाद हरियाणा में भी राजनीति गरमा गई है। यहां भी केन्द्र में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी हैं। कृषि कानूनों के खिलाफ राहुल गांधी ट्रैक्टर यात्रा को लेकर हरियाणा में आने वाले हैं। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने ऐलान किया है कि राहुल गांधी को राज्य में घुसने नहीं देंगे। इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ता गोलबंद हो रहे हैं। वे किसी भी कीमत पर राहुल गांधी को हरियाणा में लाने पर अड़े हुए हैं।
यह भी पढ़ें
पंजाब नेशनल बैंक में 83.67 लाख रुपये का घोटाला, खजांची लापता, मची खलबली
क्या है कार्यक्रम
अभी तक की योजना के मुताबिक राहुल गांधी पांच अक्टूबर, 2020 को हरियाणा में आने वाले हैं। उन्हें पेहवा, गुहला चीका या अंबाला के रास्ते कुरुक्षेत्र लाने की योजना है। पीपली में किसानों की सभा भी कराने की योजना है। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का कहना है कि राहुल गांधी पटियाला से पेहवा आएंगे उसके बाद पीपली रुकेंगे। जिसके बाद नीलोखेड़ी से तरावड़ी और तरावड़ी मंडी का दौरा करेंगे। अगले दिन घरौंडा से शुरू होकर बाबरपुर मंडी, पानीपत मंडी और समालखा जाकर यात्रा खत्म होगी।
यह भी पढ़ें
कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने पूछा- क्या हरियाणा में जंगल राज है?
कृषि मंत्री बोले- राहुल गांधी को आने का हक
गृहमंत्री अनिल विज ने भले ही राहुल गांधी को प्रवेश न करने देने की बात कही हो, लेकिन कृषि मंत्री जेपी दलाल ने मीडिया से कहा कि राहुल गांधी को हरियाणा आने का हक है, लेकिन यहां आकर कोरोना काल में भीड़ जुटा कर अव्यवस्था फैलाने का नहीं। कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन पर उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कांग्रेस की बदौलत ही देश के किसान की आर्थिक हालत आज कमजोर है और वे कर्ज में डूबे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि राहुल गांधी विदेश यात्रा के बाद 4-5 महीने में एक बार फोटो खिंचवाने के लिए ऐसा करते हैं। दलाल ने कहा कि इस देश में कानून का राज है। देश की राजनीति में राहुल का कोई योगदान नहीं है।
यह भी पढ़ें
राहुल गांधी के खिलाफ यूपी में बदसलूकीः कांग्रेस ने किया बड़ा प्रदर्शन, पुलिस से भिड़े
यूपी और हरियाणा में अंतर
उत्तर प्रदेश के हाथरस में राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को पुलिस ने नहीं घुसने दिया, लेकिन हरियाणा की बात अलग है। राज्य में कांग्रेस के 29 विधायक हैं। साफ है कि यहां कहीं न कहीं कांग्रेस मजबूत स्थिति में है। इन विधायकों को सक्रिय कर दिया गया है। हरियाणा कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष कुमारी सैलजा का कहना है कि राहुल गांधी के आने से भारतीय जनता पार्टी डरी हुई है। उन्हें प्रदेश में आने का पूरा हक है। कांग्रेस के हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल मोर्चे पर डटे हुए हैं। वे हर हाल में राहुल गांधी को हरियाणा में लाना चाहते हैं।
क्या कहते हैं कि ओम प्रकाश धनखड़
भारतीय जनता पार्ची के प्रदेश अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने पूछा है कि हरियाणा में फसलों की खरीद सही हो रही है और किसान खुश हैं। फिर राहुल गांधी यहां क्या करने आ रहे हैं। भाजपा के सभी नेता व किसान कृषि कानूनों के पक्ष में हैं। सड़कों पर किसान नहीं, बल्कि केवल कांग्रेसी हैं।
क्या कहते हैं सुरजेवाला
कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी रणदीप सुरजेवाला का कहना है कि कृषि के तीन काले कानून देश में खेती व करोड़ों किसान-मजदूर-आढ़ती को खत्म करने की साजिश के दस्तावेज हैं। खेती और किसानी को पूंजीपतियों के हाथ गिरवी रखने का यह सोचा-समझा षड्यंत्र है। अन्नदाता किसान के वोट से जन्मी मोदी सरकार आज किसानों के लिए भस्मासुर साबित हुई है।

Related posts