गांधी परिवार की सुरक्षा में SPG के बुलेट प्रूफ वाहन बने रहेंगे, सीआरपीएफ की मांग को गृह मंत्रालय ने माना

गांधी परिवार की सुरक्षा से एसपीजी हटाने का फैसला करने के बाद एसपीजी के बुलेट प्रूफ वाहन सुरक्षा घेरे में बनाए रखने की सीआरपीएफ की मांग मान ली गई है। सीआरपीएफ के पास पर्याप्त संख्या में बुलेट प्रूफ वाहन नहीं है। इसलिए उनकी सिफारिश को मानते हुए गृह मंत्रालय की कमेटी ने फिलहाल सुरक्षा घेरे में एसपीजी के बुलेट प्रूफ वाहनों को रखने की अनुमति दी है।  सूत्रों ने कहा कि एसपीजी का बुलेट प्रूफ वाहन सुरक्षा घेरे में रहेगा, लेकिन उसका ड्राइवर सीआरपीएफ से ही होगा।
सीआरपीएफ ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके परिवार के सदस्यों की सुरक्षा पर नए प्रोटोकॉल के बारे में पत्र लिखा है। सुरक्षा पर बढ़ रहे दबाव के मद्देनजर सीआरपीएफ जल्द ही एक बटालियन गठित करने की मंजूरी भी मांगेगा। अधिकारियों ने बताया कि इन हाई प्रोफाइल लोगों के साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को सीआरपीएफ की सुरक्षा देने के मद्देनजर सुरक्षा बल विशेष हथियारबंद वाहनों की खरीद के लिए भी मंजूरी मांगेगा।
अधिकारियों के मुताबिक सीआरपीएफ ने राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके परिवार के सदस्यों की सुरक्षा पर नए प्रोटोकॉल के बारे में पत्र लिखा है। इसमें सुरक्षा को लेकर प्रबंधों के बारे में जानकारी दी गई है। केंद्र सरकार ने इस महीने की शुरुआत में सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका वाड्रा को मुहैया कराए गए विशेष सुरक्षा समूह (एसपीजी) सुरक्षा की जगह केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की जेड प्लस सुरक्षा मुहैया कराई थी।
सीआरपीएफ वही करेगी,जो एसपीजी करती थी: अधिकारियों ने बताया कि सीआरपीएफ की एक विशेष टीम इन स्थानों पर कम से कम 24 घंटे पहले जाएगी और स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर वीवीआईपी के दौरे वाले स्थानों की जांच पड़ताल करेगी और उन इलाकों को अलग-थलग करेगी।एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, उन्हें सभी प्रशासनिक और पुलिस सहयोग के साथ मार्ग योजना और यात्रा मैप दिए जाने की जरूरत होगी। सीआरपीएफ अब वही करेगी जो एसपीजी करती थी।
सुरक्षा प्रोटोकॉल से अवगत करायाराज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों को यह भी सूचित किया है कि गांधी परिवार को एडवांस्ड सिक्योरिटी लायजन  प्रोटोकॉल भी दिया गया है और इसकी सुरक्षा हासिल करने वाले पांच नये सदस्यों  सोनिया गांधी, राहुल, प्रियंका, मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी गुरशरण कौर के किसी आधिकारिक या निजी दौरे पर उनके क्षेत्रों में जाने से पहले उनके खुफिया, पुलिस और प्रशासनिक मशीनरी की जरूरत पड़ेगी।

Related posts

Leave a Comment