बाजार में अब नकली जीरा, पुलिस ने छापा मारकर 5 लोगों को किया गिरफ्तार

खास बातेंयह नकली जीरा सेहत के हिसाब से जानलेवा हैदिल्ली पुलिस ने बवाना इलाके में एक नकली जीरे की फैक्ट्री का भंडाफोड़ कियापुलिस ने साढ़े 19 हज़ार किलो नकली जीरा बरामद कियानई दिल्ली:जीरा जिसकी तासीर तो गर्म होती है, लेकिन स्वास्थ्य के हिसाब से इसके अपने कई फायदे भी हैं. सब्जी, दाल, रायते में तड़के से लेकर कई देशी दवाइयों में इसका इस्तेमाल होता है, लेकिन क्या आपको पता है बाजार में नकली जीरा आ रहा है. यह नकली जीरा सेहत के हिसाब से जानलेवा है. बता दें, दिल्ली पुलिस ने बवाना इलाके में एक ऐसी ही फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया है जहां नकली जीरा बन रहा था. पुलिस ने साढ़े 19 हज़ार किलो नकली जीरा बरामद किया है, जो घास, पत्थर के बुरादे और शक्कर के शीरे से तैयार हो रहा था. ITBP में शीर्ष पदों पर आईपीएस अधिकारियों की डेपुटेशन पर नियुक्ति पर हाईकोर्ट ने लगाया स्‍टेदिल्ली के बवाना इलाके में एक नकली ज़ीरा बनाने वाली फैक्ट्री का भंडाफोड़,करीब 19400 किलो नकली ज़ीरा बरामद,फैक्ट्री मालिक समेत 5 गिरफ्तार,घास,पत्थर के पाउडर और शीरे से बनता था ज़ीरा ,स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक,ऐसे बनाते थे जानलेवा ज़ीरा pic.twitter.com/nD03H4WDMX— Mukesh singh sengar (@mukeshmukeshs) November 19, 2019बाहरी उत्तरी दिल्ली के डीसीपी गौरव शर्मा के मुताबिक उनकी टीम को जानकारी मिली कि बवाना के पूठ खुर्द गांव में एक फैक्ट्री में नकली जीरा बनाया जा रहा है. पुलिस ने जब FSO और FSSI की टीम के साथ फैक्ट्री में छापेमारी की तो कुल 5 लोग गिरफ्तार हुए जिनमें फैक्टरी मालिक हरिनंदन और 4 मजदूर शामिल हैं. फैक्ट्री में कुल 19400 किलो नकली जीरा, 5250 किलो पत्थर का बुरादा, 1600 किलो घास और 1225 किलो जीरा बरामद हुआ.
स्वरा भास्कर का JNU के छात्रों पर Tweet हुआ वायरल, बोलीं- दिल्ली पुलिस ने लाठीचार्ज क्यों किया…कैसे बनता था नकली जीराआरोपी हरिनंदन ने बताया कि वो शाहजहांपुर के जलालाबाद गांव का रहने वाला है. नकली जीरा बनाने का काम उसने अपने गांव में से ही सीखा. उसने इसी साल अगस्त के महीने में बवाना में एक गोदाम काम किराए पर लिया और फिर नकली जीरा बनाने का काम शुरू कर दिया. नकली जीरा बनाने के लिए कच्चा माल वो राजस्थान से मांगता था. उसने बताया कि पहले खास तरह की खास को शीरे में मिलाते हैं फिर पत्थर का बुरादा मिलाते हैं और नकली जीरा तैयार हो जाता है.दिल्ली से कनाडा के लोगों को ठगने वाले कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 32 गिरफ्तार20 रुपये किलो का जहरीला जीरा 400 रुपये किलो मेंपुलिस के मुताबिक ये जहरीला जीरा 20 रुपये किलो में व्यापारियों को दिया जाता है. व्यापारी इस नकली जीरे को असली जीरे में मिला कर बेचते हैं. मिलावट ऐसी की जाती है कि 20 प्रतिशत नकली और 80 प्रतिशत असली जीरा हो. जिससे खाने में लोगों को पता न चल सके. बाजार में असली जीरे की कीमत करीब 400 रुपये किलो है. फैक्ट्री में मजदूरों को 1 किलो जीरा बनाने पर 2 रुपये मिलते थे. इस जीरे की सप्लाई उत्तर प्रदेश और राजस्थान में की जा रही थी. डॉक्टरों के मुताबिक इस जहरीले जीरे से किडनी और लिवर से जुड़ी गंभीर बीमारियां हो सकती हैं, जो जानलेवा हैं.टिप्पणियां

Related posts