VIDEO : क्रिकेट कोच ने छात्रा के साथ की ऐसी हरकत, अधिकारियों तक पहुंचा मामला

मुजफ्फरननगर। जनपद में चौधरी चरण सिंह स्पोर्ट्स स्टेडियम में तैनात महिला क्रिकेट कोच पर ट्रेनिंग ले रही एक छात्रा ने मारपीट का आरोप लगाया है। पीड़ित छात्रा ने अपने पिता के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचकर अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व से शिकायत करते हुए कोच के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। छात्रा का आरोप है कि क्रिकेट की कोच अपने पास कोचिंग का सामान रखती हैं और क्रिकेट प्रशिक्षण लेने वाले छात्र-छात्राओं से जबरन सामान खरीदने का दबाव बनाती हैं। वहीं सामान नहीं खरीदने पर मारपीट करती हैं।
यह भी पढ़ें : Ponty Chadha के हाथों में नहीं थी ‘लकीर’, फिर भी इस तरह बना शराब और सिनेमा का ‘बादशाह’
दरअसल, मामला थाना सिविल लाइन क्षेत्र स्थित चौधरी चरण सिंह स्पोर्ट्स स्टेडियम का है। जहां थाना नगर कोतवाली क्षेत्र के एक निवासी छात्रा ने अपने पिता के साथ कलेक्ट्रेट स्थित जिलाधिकारी कार्यालय पर पहुंचकर अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व आलोक कुमार को प्रार्थना पत्र देते हुए आरोप लगाया है कि चौधरी चरण सिंह स्पोर्ट्स स्टेडियम में तैनात क्रिकेट कोच प्रीति मेहरा अपने पास क्रिकेट संबंधी सामान रखती हैं और प्रशिक्षण ले रहे छात्र-छात्राओं पर उस सामान को खरीदने का दबाव बनाती हैं।
यह भी पढ़ें : दून और जम्मूतवी एक्सप्रेस निरस्त, कई ट्रेनें बदले हुए मार्ग से जाएंगी
छात्रा ने आरोप लगाया कि अगर कोई बच्चा उनसे सामान नहीं खरीदता तो उसके साथ मारपीट की जाती है। आरोप है कि दिनांक 13 जून को क्रिकेट कोच प्रीति मेहरा ने किसी बात से नाराज होकर छात्रा को बेहरहमी से पीटते हुए गाली गलौच की। इस दौरान पीड़ित छात्रा ने बताया कि में जिला स्पोर्ट्स स्टेडियम में क्रिकेट की प्रेक्टिस करने के लिए जाती हूं ओर करीब एक वर्ष हो चुका है। मुझे वहां पर क्रिकेट की प्रैक्टिस करते हुए मेरी कोच प्रीति मेहरा ने बड़ी बेहरहमी से मारा। काफी समय से वह मारपीट करती आ रही हैँ।
छात्रा ने कहा कि मैं चाहती हूं कि इनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। वहीं इस दौरान अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व आलोक कुमार ने बताया कि एक लड़की हमारे पास प्रार्थना पत्र लेकर आई थी। जो स्टेडियम में क्रिकेट का प्रशिक्षण ले रही हैं। उसने बताया है कि प्रशिक्षक प्रीति मेहरा इनके साथ मारपीट की है। इस संबंध में मेरे द्वारा जिला क्रीड़ा अधिकारी को फोन कर अवगत करा दिया गया है। इस मामले की जांच कर उचित कार्रवाई की जाए।

Related posts