World day against child labour: बालश्रम निषेध दिवस आज, जानिए बाल मज़दूरी से जुड़े चौंकाने वाले फैक्ट्स

नई दिल्ली:वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर (World Day Against Child Labour) की शरुआत साल 2002 से हुई. बाल मज़दूरी (Child Labour) को जड़ से खत्म करने के लिए बालश्रम निषेध दिवस हर साल 12 जून को मनाया जाता है. इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन (International Labour Organisation) ने बालश्रम निषेध दिवस शुरुआत की. इस साल वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर डे की थीम “Children shouldn’t work in fields, but on dreams” यानी बच्चे फील्ड पर नहीं बल्कि अपने सपनों पर काम करें. ”इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन के मुताबिक आज भी 152 मिलियन बच्चे मज़दूरी करते हैं. बाल मज़दूर हर क्षेत्र में मौजूद हैं, वहीं 10 में से 7 बच्चे खेतों में काम करते हैं. पाकिस्तान के बजट में इस बार 100 करोड़ करतारपुर कॉरिडोर के नाम, अधिकारी बोले – पूरा हो चुका है 50 प्रतिशत कामवर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर पर नोबल प्राइज़ विजेता कैलाश सत्यार्थी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि “ये किसके बच्चे हैं जो पढ़ाई और स्वतंत्रता छोड़ कारखानों और फैक्ट्री में मज़दूरी कर रहे हैं? यह हमारे बच्चे हैं. इसलिए लोगों से विनती है कि जहां भी बच्चा काम करता हुए दिखे उस जगह की सेवा ना लें. 210 मिलियन युवा बेरोज़गार हैं, वाबजूद इसके 152 मिलियन बच्चे मज़दूरी क्यों कर रहे हैं.” Whose children are they who toil in mines, factories &fields at the cost of their freedom & education? They are all our children. Please don’t accept hospitality where children are working.Why 152 million child laborers when 210 million adults jobless? #WorldDayAgainstChildLabour— Kailash Satyarthi (@k_satyarthi) June 12, 2019वहीं, वाइस प्रेसिडेंट वेंकैया नायडू ने भी पोस्ट शेयर करते हुए लिखा कि चाइल्ड लेबर समाज के लिए खतरनाक है. यह बच्चों के विकास में रुकावट है. इस वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर पर आइए हम इस सामाजिक बुराई को मिटाने का संकल्प लें और बच्चों को एक सुरक्षित, खुशहाल और सहायक वातावरण सुनिश्चित करें.इस देश में रहस्यमयी बीमारी से 14 की मौत, कब्रों से शवों को निकालकर की जा रही है जांच…Child labour is a social evil that endangers the development of children and the society. On World Day Against Child Labour, Let us resolve to eradicate the social evil and ensure a safe, happy & supportive environment to children. #NoChildLabour#WorldDayAgainstChildLabourpic.twitter.com/RPdDN6Zvw8— VicePresidentOfIndia (@VPSecretariat) June 12, 2019इसके आगे उन्होंने लिखा कि प्रभावी रूप से कानूनों को लागू करने के अलावा, प्रत्येक नागरिक को बाल श्रम मुक्त समाज बनाने का प्रयास करना चाहिए. केंद्रिय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने भी ट्विटर पर लिखा, ‘आइए हम सब मिलकर बाल श्रम को रोकने का प्रयास करें.’टिप्पणियां

Related posts

Leave a Comment