गुरुग्राम : इराकी नागरिक ने आठवीं मंजिल से फेंककर दो कुत्तों की जान ली

मनुष्य के सबसे वफादार कहे जाने वाले कुत्तों के साथ एक विदेशी नागरिक ने क्रूरता की हदें पार कर दीं। आरोप है इराकी नागरिक ने सेक्टर-65 की एमार एमराल्ड सोसाइटी की आठवीं मंजिल से कुत्ते के दो छोटे बच्चों (पपी) को फेंककर जान ले ली। हालांकि आरोपी खुद को बेगुनाह बताते हुए उन पपी के खुद गिरकर मौत होने का दावा कर रहा है। पशुओं के लिए काम करने वाली एक संस्था ने सोमवार को आरोपी के खिलाफ सेक्टर-65 थाना पुलिस में शिकायत दी। पुलिस विदेशी नागरिक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।
सोसाइटी में रहने वाली नीकिता कपूर ने बताया कि वह सोमवार सुबह सोसाइटी में सैर कर रही थी। इसी दौरान डी-टावर के आठवीं मंजिल पर बने फ्लैट नंबर 804 की बालकनी से उनके सामने एक पपी को फेंका गया। उसके कुछ सेकेंड बाद दूसरे पपी को गिरा दिया गया। दोनों की मौके पर मौत हो गई। उन्होंने गार्ड को बुलाया। गार्ड फ्लैट में जाकर पूछताछ की। फ्लैट से दो लोग बाहर आए। वे बिना कुछ बताए अपने ऑफिस चले गए। पपी के शव सोसायटी में ही पड़े रहे थे। उन्होंने उम्मीद फॉर एनिमल फाउंडेशन के संस्थापक निखिल महेश से संपर्क कर उनको सूचना दी। निखिल ने इराकी नागरिक सैफ अजहर अब्दुल हुसैन अल-नाजी के खिलाफ थाने में शिकायत दी। 
नींद में खलल पड़ने पर बालकनी से फेंकने का आरोप
पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर विवेक ने बताया कि ज्यादा ऊंचाई से गिरने के कारण मौत हुई है। दोनों आठ से दस महीने के बीच के हैं। एक पपी फीमेल और दूसरा मेल था। ईमेल के जरिए पुलिस महानिदेशक को दी शिकायत में संगीता डोगारा ने बताया है कि नींद में खलल पड़ने के चलते आरोपी इराकी नागरिक ने पपी को बालकनी से फेंका। कड़ी कार्रवाई की मांग की है।
शिहतज़ु नस्ल के थे
डॉ. विवेक ने बताया कि शिहतज़ु नस्ल के दोनों पपी थे। गुरुग्राम में इस नस्ल के कुत्ते 28 से 30 हजार रुपये में मिलते हैं। यह विदेशी नस्ल के हैं। यह चीन में पाए जाते हैं। 
कुत्तों को पीटते थे आरोपी
सोसाइटी में रहने वाली एक महिला ने बताया कि ये लोग पपी को प्राय: पीटते थे। इस वजह से पपी की जोर की आवाजेंआती थीं। लेकिन कभी सोचा नहीं थी कि वह ऐसा भी करेंगे।
आरोप से इनकार किया
सेक्टर-65 प्रभारी दिनेश यादव ने बताया कि फ्लैट 804 में रहने वाले सैफ अजहर से पूछताछ की गई। वह इराक का रहने वाला है। फ्लैट में दोस्त के साथ रहता है। पूछताछ उसने बताया कि उसने पपी को फेंका नहीं है। दोनों बालकनी में खेल रहे थे। बालकनी की ग्रिल से गिरकर उनकी मौत हुई है। सैफ अजहर गुरुग्राम के निजी अस्पताल में अनुवादक के तौर पर काम करता है। 

Related posts

Leave a Comment