लोकसभा चुनाव 2019: पश्चिम बंगाल के गृह सचिव हटाए गए, एक दिन पहले खत्म होगा प्रचार

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections 2019) के आखिरी चरण के लिए जहां एक तरफ देशभर में सभी दलों की तरफ से पूरी ताकत झोंक दी गई है, तो वहीं दूसरी पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार पर समय से एक दिन पहले ही रोक लग जाएगी।
चुनाव आयोग के आदेश के मुताबिक, पश्चिम बंगाल में 19 मई को होने वाले मतदान के लिए गुरूवार की रात 10 बजे ही चुनाव प्रचार पर रोक लग जाएगी। चुनाव आयोग ने कहा- “पश्चिम बंगाल की 9 संसदीय सीट- जयनगर, दमदम, बारासात, बशीरहाट, डायमंड हार्बर, मथुरापुर, कोलकाता दक्षिण, कोलकाता उत्तर, जाधवपुर में गुरुरवार रात दस बजे के बाद चुनाव प्रचार पर रोक रहेगी।”
ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: प्रदेश में सातवें चरण के रण का केंद्र बना बनारस
हटाए गए राज्य के मुख्य सचिव
इसके साथ ही, चुनाव आयोग ने कहा कि एडीजी सीआईडी राजीव कुमार को गृह मंत्रालय भेजा जा रहा है। उन्हें कल सुबह 10 बजे तक गृह मंत्रालय को रिपोर्ट करना चाहिए। इसके साथ ही, पश्चिम बंगाल के प्रधान सचिव, गृह और स्वास्थ्य मामलों के सचिव का भी चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल चुनाव आयोग को निर्देश देने को लेकर वर्तमान ड्यूटू से हटाया जा रहा है। अब गृह सचिव के काम की देखरेख फिलहाल मुख्य सचिव करेंगे।
चुनाव आयोग ने कहा- “संभवत: ऐसा पहली बार है जब भारतीय चुनाव आयोग ने इस तरीके से आर्टिकल 324 को निरस्त किया है। लेकिन हिंसा और बिगड़ती कानून व्यवस्था जो शांतिपूर्ण मतदान की दिशा में बाधा बने उस सूरत में यह आखिरी नहीं हो सकता है।”
ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव: 7वें चरण की ये हैं महत्वपूर्ण सीटें,जिन पर है देश की नजर
विद्यासागर मूर्ति तोड़फोड़ को लेकर चुनाव आयोग नाराज
चुनाव आयोग ने कहा कि वह मंगलवार की शाम को विद्यासागर की प्रतिमा को तोड़फोड़ किए जाने से काफी नाराज है। उन्होंने कहा कि ऐसी उम्मीद की जा रही है कि राज्य प्रशासन की तरफ से उन हुड़दंगियों की पहचान की जाएगी।
गौरतलब है कि बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में मंगलवार को कोलकाता में भडकी हिंसा और आगजनी के बाद ईश्वरचंद्र विद्यासगर की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाया गया। बीजेपी ने इस घटना के लिए टीएमसी को कसूरवार ठहराया।
लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में आठ राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग होगी। पश्चिम बंगाल में लगातार मतदान के दौरान भारी हिंसा की खबर सामने आई  है। यहां पर जहां एक तरफ राज्य की सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस अपना गढ़ बचाए रखने की चुनौती से जूझ रही है वहीं दूसरी ओर तेजी के साथ उभरी बीजेपी को अपने लिए नया अवसर दिख रहा है।  
ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव बाद राष्ट्रीय भूमिका में आने की KCR की कोशिश

Related posts

Leave a Comment